|| हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण, हरे हरे, हरे राम, हरे राम, राम राम, हरे हरे ||
Payment options:
  1. Home
  2. »
  3. ग्रंथावली

ग्रंथावली

चैतन्य चरितामृत

चैतन्य चरितामृत   चैतन्य चरितमित्र उन प्राथमिक ग्रंथों में से एक है जो श्री चैतन्य महाप्रभु (1486-1533), जो कि एक वैष्णव संत और गौड़िया वैष्णव संप्रदाय के संस्थापक थे, के जीवन और शिक्षाओं का विवरण देते हैं। यह कृष्ण दास कविराज गोस्वामी (बी। 14 9 6), द्वारा मुख्य रूप से बंगाली भाषा में लिखा गया … Continue reading "चैतन्य चरितामृत"

भगवद-गीता

भगवत-गीता का उद्देश्य मानव जाति को भौतिक अस्तित्व के मिथ्या-अहंकार से मुक्त करना है। हर जीव को कई तरीकों से कठिनाई होती है, और उसी तरह अर्जुन को कुरुक्षेत्र की लड़ाई लड़ने में भी कठिनाई होती है।   अर्जुन ने श्रीकृष्ण को आत्मसमर्पण कर दिया, और इसके परिणामस्वरूप भगवद गीता बोली गई। न केवल अर्जुन, … Continue reading “भगवद-गीता”